इलाहाबाद विश्वविधालय में एनएसयूआई और सपा छात्र सभा ने विधार्थी परिषद को रोका

इलाहबाद। इलाहाबाद विश्वविधालय में हुए छात्रसंघ चुनावो में भारतीय जनता पार्टी के छात्र संगठन अखिल भारतीय विधार्थी परिषद को बड़ा झटका लगा है।

छात्र संघ चुनाव में पांच प्रमुख पदों में से चार पर समाजवादी पार्टी की छात्र इकाई समाजवादी छात्र सभा (सछास) और कांग्रेस की छात्र इकाई भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई) ने कब्जा कर लिया है। विधार्थी परिषद को सिर्फ महामंत्री पद से संतोष करना पड़ा है।

समाजवादी छात्रसभा के उम्मीदवारो ने अध्यक्ष एवं संयुक्त मंत्री और एनएसयूआई के उम्मीदवारो ने उपाध्यक्ष एवं सांस्कृतिक सचिव पद पर विजय हासिल की है। अध्यक्ष पद पर समाजवादी छात्रसभा के उदय प्रकाश यादव विजयी हुए हैं।

बता दें कि एनएसयूआई ने केवल दो पदों उपाध्यक्ष और सांस्कृतिक सचिव पद पर ही प्रत्याशी उतारे थे और उसके दोनो प्रत्याशी जीत गए हैं। जबकि पिछले वर्ष हुए छात्रसंघ चुनावो में कांग्रेस का कोई उम्मीदवार नहीं जीत सका था।

फिलहाल कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई और समाजवादी पार्टी के छात्र संगठन के उम्मीदवारों की जीत से बीजेपी को धक्का अवश्य लगा है। इलाहाबाद में कांग्रेस हलकों में जश्न का माहौल है।

नतीजे आने के बाद बवाल:

छात्रसंघ चुनाव का परिणाम आने के बाद हिंसा का तांडव शुरू हो गया। हॉलैंड हॉल हास्टल में नवनिर्वाचित व निवर्तमान अध्यक्ष समेत आठ लोगों के कमरे आग के हवाले कर दिया गया। इतना ही नहीं हिंसा और आगजनी के दौरान बम का भी इस्तेमाल किया गया। बमबाजी की घटना में दारागंज इंस्पेक्टर जख्मी हो गए, जिन्हें बेली अस्पताल भेजा गया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें