इलाज के नाम पर सिर्फ मुसलमानो की कटवाई जाती है दाढ़ी: आज़मी

मुंबई। महाराष्ट्र प्रदेश समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अबू आसिम आज़मी ने आरोप लगाया है कि इलाज के नाम पर सिर्फ मुसलमानो को ही दाढ़ी कटवाने पर मजबूर किया जाता है।

बीएमसी कमिश्नर को लिखे एक पत्र में आज़मी ने कहा कि सर्जरी के नाम पर कभी किसी साधु संत और अन्य धर्मों के लोगों की दाढ़ी नहीं काटी जाती जबकि मुसलमानो की दाढ़ी कटवा दी जाती है।

पत्र में अबू आज़मी ने ऑपरेशन के दौरान मुस्लिमों की दाढ़ी न काटने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि इस्लाम में दाढ़ी का महत्व है. ऐसे में इलाज के नाम पर मुस्लिमों की भावनाएं आहत न कि जाएं।

उन्होंने कहा कि जब सर्जरी के लिए निजी अस्पतालों के डॉक्टर आमतौर पर मुसलमानो से दाढ़ी काटने को नहीं कहते। निजी अस्पतालों में अति आवश्यक होने पर ही मुसलमानो से दाढ़ी कटवाने के लिए कहा जाता है तो बीएमसी हॉस्पिटल्स के डॉक्टर मुसलमानो के इलाज के नाम पर उनकी दाढ़ी क्यों कटवाने को मजबूर करते हैं।

गौरतलब है कि अबू आज़मी कई बार पहले भी विवादित बयान दे चुके हैं। उन्होंने बीएमसी हॉस्पिटल के डॉक्टरों को कसाई बताते हुए कहा कि मुसलमानो की दाढ़ी जानबूझ कर कटवाई जा रही है।

वहीँ इस मामले में अभी तक बीएमसी हॉस्पिटल्स की तरफ से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आयी है और न ही राज्य सरकार ने आज़मी के इस आरोप पर कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया दी है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें