आलोक वर्मा को छुट्टी भेजने के विरोध में कल देशव्यापी प्रदर्शन करेगी कांग्रेस

नई दिल्ली। सीबीआई निदेशक को छुट्टी पर भेजे जाने को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि ये केंद्र ने ये फैसला राफेल सौदे को लेकर शुरू होने वाली जांच में बाधा डालने के लिए लिया है। कांग्रेस का कहना है कि आलोक वर्मा जल्द ही इस मामले में जांच के आदेश देने वाले थे।

सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने को लेकर विपक्ष ने कड़ा रुख अपना लिया है। कांग्रेस ने इस मुद्दे पर 26 अक्टूबर को देशभर में प्रदर्शन करने का ऐलान किया है। यही नहीं कांग्रेस के नेता सीबीआई हेडक्वार्टर के बाहर भी प्रदर्शन करेंगे।

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार ने यह फैसला राफेल सौदे को लेकर शुरू होने वाली जांच में बाधा डालने के लिए लिया है। कांग्रेस का कहना है कि आलोक वर्मा राफेल विमान सौदे से जुड़े कागजात एकत्र कर रहे थे और जल्द ही वे इस पर जांच के आदेश देने वाले थे।

वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार ने सीबीआई की आजादी में आखिरी कील ठोक दी है। सीबीआई का व्यवस्थित विध्वंस और बदनामी अब पूरी हो गई है। एक वक्त की शानदार जांच एजेंसी, जिसकी अखंडता, विश्वसनीयता और दृढ़ता खत्म करने का काम प्रधानमंत्री ने किया है।

सीबीआई प्रमुख आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने पर केंद्र सरकार ने कहा था, ‘विशेष निदेशक द्वारा निदेशक पर आरोप लगाया गया है। विशेष निदेशक पर सीबीआई ने आरोप लगाया है। दो बड़े अधिकारी आरोपों के घेरे में हैं। ऐसे में इस मामले की जांच कौन करेगा? इस मामले में निष्पक्ष जांच की जरूरत है। इसलिए सीबीआई प्रमुख को छुट्टी पर भेजा गया है’। जेटली ने कहा कि सीवीसी की बैठक में यह बात तय हुई थी।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें