आज अध्यक्ष पद संभालेंगी शीला दीक्षित, कांग्रेस को फिर से खड़ा करना चुनौती

नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर तीन बार की पूर्व सीएम शीला दीक्षित आज अपना पदभार संभालेंगी। न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए शीला दीक्षित ने कहा कि राजनीति में चुनौतियां हमेशा रहती हैं और उनसे निपटने के लिए वे रणनीति तैयार करती रहेंगी।

उन्होंने दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के साथ आम आदमी पार्टी को भी कांग्रेस के लिए चुनौती बताया है। दिल्ली में आम आदमी पार्टी से गठबंधन की चर्चाओं को विराम देते हुए शीला दीक्षित ने कहा कि आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर अभी कहीं कोई बात नहीं हो रही है।

गौरतलब है कि दिल्ली की राजनीति में शीला दीक्षित को बेहद अनुभवी बताया जाता है। पंद्रह वर्षो तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रही शीला दीक्षित पर एक बार फिर कांग्रेस ने भरोसा जताते हुए उन्हें प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर ज़िम्मेदारी सौंपी है।

इससे पहले अजय माकन ने 4 जनवरी को निजी कारणों से दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर अजय माकन के स्थान पर नई न्युक्ति को लेकर कांग्रेस में चले मंथन के बाद 10 जनवरी को शीला दीक्षित को यह अहम ज़िम्मेदारी सौंपी गयी।

शीला दीक्षित के सामने सबसे बड़ी चुनौती कांग्रेस को फिर से खड़ा करने की है। चूँकि लोकसभा चुनाव भी नजदीक ही हैं इसलिए शीला दीक्षित को तेज गति से काम करना पड़ेगा। हालाँकि स्वयं शीला दीक्षित इस बात को कह चुकी हैं कि जब वे काम शुरू करेंगी तो उसमे उनकी उम्र वाधा नहीं बनेगी।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें