अलग धर्मो के छात्र छात्रा की दोस्ती को पुलिस ने लव जिहाद कहकर की बदसलूकी, 3 सस्पेंड

मेरठ। यहाँ दो अलग धर्म के छात्र छात्रा की दोस्ती को पुलिस ने हिन्दू संगठनों के दबाव में आकर न सिर्फ लव जिहाद का नाम दे दिया बल्कि छात्र छात्रा के साथ बदसलूकी भी की।

इतना ही नहीं जब डायल 100 की गाडी में उक्त छात्र छात्रा को पुलिस स्टेशन ले जाया जा रहा था तो महिला पुलिसकर्मी ने छात्रा से बदसलूकी करते हुए उसके चेहरे पर लगा रुमाल हटाकर मीडिया के समक्ष उसकी पहचान भी उजागर कर दी।

इस मामले में तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। जिन तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है उनके नाम सलेख चंद, सेंसरपाल और महिला कॉन्स्टेबल नीतू सिंह बताया गया है।

क्या था मामला:

रविवार को मेरठ के जागृति विहार स्थित एक मकान में विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर छापेमारी की थी। इस दौरान इस घर में मौजूद मेडिकल कॉलेज की एक छात्रा और छात्र पर संगठन के लोगों ने गलत काम करने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया था।

आरोप है कि वीएचपी कार्यकर्ताओं ने यहां मौजूद छात्र की पिटाई की थी और छात्रा के साथ भी दुर्व्यहवार किया था। बताया जा रहा है कि घर में मौजूद छात्र और छात्रा अलग-अलग संप्रदाय के थे। आरोप है कि डायल 100 की गाडी चला रहे पुलिस कॉन्स्टेबल ने युवती से अश्लील भाषा में बात करते हुए उसके साथ सेल्फी भी ली।

इस हंगामे के बीच मौके पर पहुंची पुलिस दोनों का थाने पर ले आई थी,जहां पूछताछ में छात्रा ने बताया कि वह हापुड़ की रहने वाली है और कॉलेज के छात्रावास में रहती है। पुलिस की पूछताछ में छात्रा ने कहा कि वह अपने दोस्त के घर पर पढ़ाई के लिए आई थी।

हालांकि इस बयान के बाद भी पुलिस ने दोनों को देर शाम तक थाने पर बैठाए रखा, वहीं छात्रा के परिजनों के आने के बाद उसे और उक्त युवक को छोड़ दिया गया।

इस पूरे घटनाक्रम के बाद मंगलवार को सोशल मिडिया में वायरल हुए एक वीडियो से यह मामला फिर से चर्चा का विषय बन गया। विडियो में छात्रा की पिटाई, आपत्तिजनक टिप्पणी और पहचान सार्वजनिक होने की बात सामने आने के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया।

इसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर सीओ सिविल लाइंस राम अर्ज ने फुटेज के आधार पर सलेख चंद, नीतू सिंह और सेंसरपाल नाम के तीन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति करते हुए एसएसपी को अपनी रिपोर्ट भेज दी, जिसके बाद देर शाम तीनों पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें