अमृतसर ट्रेन एक्सीडेंट में अनाथ हुए बच्चो की पढाई का खर्च उठाएंगे सिद्धू

नई दिल्ली। विजय दशमी के दिन अमृतसर में हुए रेल हादसे में जिन बच्चो ने अपने पिता को खो दिया उन बच्चो का ताउम्र शिक्षा का खर्च पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू उठाएंगे।

सिद्धू ने एलान किया कि वे हादसे में मारे गए परिजनों की देखभाल करेंगे और उनके बच्चो की शिक्षा का ताउम्र खर्च उठाएंगे भले ही वे किसी पद पर रहें या नहीं।

सिद्धू ने कहा कि यह मेरा परिवार है। यह वो लोग हैं जिन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू को सम्मान दिया। सिद्धू ने कहा कि गुरु की नगरी में यह उनका दूसरा वचन है। पहला वचन दिया था कि जब तक सियासत में हूं, अमृतसर से चुनाव लड़ूंगा। अब यह मेरा दूसरा वचन है। जब तक मेरी धर्मपत्नी है, कोई अनाथ या बेसहारा वो भूखा नहीं रहेगा। इन लोगों का मुझ पर और मेरी पत्नी पर एहसान है।

सिद्धू ने कहा कि जिन परिवारों में बच्चों को पढ़ाई लिखाई या खाने तक की तंगी होगी, मैं जेब से पूरी करूंगा। जब तक मेरी जेब में चार पैसे हैं, मैं सबको गोद लेता हूं और उनकी देखभाल करूंगा।

इतना ही नहीं नवजोत सिंह सिद्धू ने यह भी कहा कि किसी की भी पढ़ाई की जिम्मेदारी मेरी है। अगर परिवार में कोई कमाने वाला नहीं है, तो मेरी जिम्मेदारी है। अगर परिवार में कोई सेटल नहीं है तब भी मेरी जिम्मेदारी है। उनके खाने पीने से लेकर सारा खर्च जेब से वहन करूंगा। हमें इन लोगों से प्यार मिला, विश्वास मिला है, इससे बढ़कर क्या चाहिए।

गौरतलब है कि अमृतसर में विजय दशमी के दिन रेलवे ट्रेक पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे लोगों को ट्रेन ने कुचल दिया था। इस हादसे में करीब 60 लोगों की मौत हो गई थी तथा करों 50 लोग घायल हो गए थे।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें