बड़ी खबर

अमित शाह के बयान पर कांग्रेस की दो टूंक: अयोध्या मामले में मानेगे सुर्पीमकोर्ट का फैसला

नई दिल्ली। सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड के वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल द्वारा सुप्रीमकोर्ट से अयोध्या मामले में सुनवाई 2019 के बाद कराये जाने के अनुरोध पर भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह द्वारा उठाये गए सवाल कि कोर्ट में पेश दलीलें कपिल सिब्बल की हैं या सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड की ? इस पर कांग्रेस ने पलटवार किया है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि इस मामले पर विवाद खड़ा करने से पहले भाजपा को अपना इतिहास देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि कपिल सिब्बल कोर्ट में वह किसका प्रतिनिधित्व करते हैं, यह उनका व्यक्तिगत मामला है। इससे कांग्रेस का कोई लेना-देना नहीं है।

सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस का पक्ष हमेशा साफ रहा है कि अयोध्या मामले पर फैसला सुप्रीम कोर्ट करेगा। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में कानून मंत्री ने भी कई बार ऐसा ही कहा है।

सुरजेवाला ने कहा कि भोपाल गैस त्रासदी मामले में अरुण जेटली जी वकील थे, क्या इसके लिए पूरी बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। गौरतलब है कि अयोध्या मामले में आज हुई सुनवाई में सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से पेश हुए वकील कपिल सिब्बल ने गुजारिश की है कि मामले की सुनवाई 2019 के चुनाव के बाद होनी चाहिए क्योंकि इस मामले पर राजनीति हो सकती है।

कपिल सिब्बल द्वारा कोर्ट में किये गए निवेदन पर बबीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि आरोप लगाया कि कांग्रेस राम जन्म भूमि केस के रास्ते में रोड़े अटकाना चाहती है और इसीलिए कपिल सिब्बल सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील के रूप में सामने आये हैं, कांग्रेस पार्टी को स्पष्ट करना चाहिए की कांग्रेस राम जन्म भूमि केस की सुनवाई जल्द से जल्द होने के पक्ष में है या नहीं ।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Facebook

Copyright © 2017 Lokbharat.in, Managed by Live Media Network

To Top