अब रामदेव की पतंजलि के प्रोडक्टों में निकली ये गड़बड़झाला

नई दिल्ली। बाबा रामदेव से जुडी कम्पनी पतंजलि के शर्बतों को लेकर एक गड़बड़झाला सामने आयी है। भारत और अमेरिका में बिकने वाले पतंजलि ब्रांड के शर्बतों में अमेरिकी हेल्थ रेगुलेटर यूएसएफडीए को अंतर मिला है।

यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (यूएसएफडीए) का कहना है कि इन शरबतों के लेबलों में अतिरिक्त औषधीय और आहार संबंधी दावे अलग-अलग है। उसने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कंपनी के उत्पाद और उनकी पैकेजिंग निर्यात और घरेलू बाजार के लिए अलग-अलग है। अमेरिकी फूड सेफ्टी कानून भारतीय कानून से कहीं ज्यादा सख्त हैं।

अगर कंपनी के अमेरिका में बिक रहे उत्पादों में गलत ब्रांडिंग पायी जाती है तो यूएसएफडीए उत्पादों के आयात पर रोक लगाने का चेतावनी पत्र जारी कर सकता है। इसके अलावा उसके उत्पाद जब्त हो सकते हैं और कंपनी के खिलाफ फेडरल कोर्ट से आदेश जारी हो सकता है। यहां तक कि उस पर पांच लाख डॉलर (करीब 3.5 करोड़ रुपये) जुर्माना और कंपनी के अधिकारियों को तीन साल तक की सजा भी हो सकती है।

यूएसएफडी के जांचकर्ता मौरीन ए. वेंटजेल ने पिछले साल सात और आठ मई को पतंजलि आयुर्वेद लि. के हरिद्वार प्लांट की यूनिट-3 का निरीक्षण किया था। उन्होंने अपनी निरीक्षण रिपोर्ट में कहा कि पतंजलि ब्रांड से बेल शरबत और गुलाब शरबत उत्पादों की मार्केटिंग होती है। लेकिन भारतीय लेबलों में अतिरिक्त औषधीय और आहार संबंधी दावे किए गए हैं। जांचकर्ता ने यह रिपोर्ट कंपनी को भी भेजी है। पतंजलि ग्रुप के प्रवक्ता को भेजे सवालों के जवाब नहीं मिले हैं।

रिपोर्ट के अनुसार जांच के दौरान पतंजलि के हरिद्वार प्लांट के शहद प्रोसेसिंग क्षेत्र में उत्पादन उपकरणों के ऊपर कबूतर उड़ते पाए गए। कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि जल्दी ही कबूतरों को यहां से हटाया जाएगा। आठ मई 2018 को जब शहद उत्पादन शुरू हुआ, तब उस बिल्डिंग में कबूतर नहीं थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें