अब ताज महोत्सव के भगवाकरण की तैयारी !

आगरा। 18 से 27 फरवरी तक आगरा के शिल्पग्राम में आयोजित होने वाले ताज महोत्सव के कार्यक्रमों की रूपरेखा तय कर दी गई है। मिली जानकारी के अनुसार इस बार ताज महोत्सव में मुगल संस्कृति नदारद रहेगी।

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो ताज महोत्सव के दौरान आयोजित कार्यक्रमों में मुग़ल संस्कृति की परछाई को भी दूर रखा गया है। प्रदेश के पर्यटन विभाग द्वारा इस बार मुगल संस्कृति पर कोई कार्यक्रम कराये जाने की जगह श्री राम नाटिका कराए जाना तय किया गया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार ताज महोत्सव का उद्धघाटन प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक और योगी आदित्यनाथ करेंगे और उन्हें कार्यक्रम में शामिल होने के लिए निमंत्रण भेज दिया गया है।

इतना ही नहीं 19 फरवरी को लोक गायिका मालिनी अवस्थी का कार्यक्रम निर्धारित है जबकि 20 फरवरी को बॉलीवुड नाइट का कार्यक्रम है। 21 फरवरी को कव्वाली गायक असलम साबरी तो 22 फरवरी को पुणे का ब्लैक एंड व्हाइट ग्रुप पुराने गीतों पर आधारित कार्यक्रम पेश करेगा। 23 फरवरी को मुशायरा और 24 फरवरी को कवि सम्मेलन होना तय किया गया है।

फिलहाल प्रदेश सरकार के पर्यटन विभाग की लिस्ट में ऐसा कोई कार्यक्रम दिखाई नहीं दे रहा जो मुगलकालीन सस्कृति को दर्शाता हो और जिसमे ताजमहल के निर्माण और मुग़ल बादशाह शाहजहां की मुमताज से मोहब्बत का ज़िक्र हो।

सूत्रों की माने तो ताज महोत्सव में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में मुसलिम समुदाय से जुड़े कलाकारों में सिर्फ कव्वाल असलम साबरी का नाम ही दिखाई दे रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि ताज महोत्सव पर भी भगवाकरण का साया पड़ना तय है।

Share

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें