अच्छे दिन: पासपोर्ट कार्यालय में भी सांप्रदायिक व्यवहार, कहा ‘हिन्दू धर्म कर लें स्वीकार’

लखनऊ। लखनऊ पासपोर्ट कार्यालय में सांप्रदायिक सोच रखने वाले एक अधिकारी का चेहरा सामने आया है। इस अधिकारी ने पति पत्नी का धर्म अलग अलग होने तथा महिला को मुस्लिम से शादी करने के लिए प्रताड़ित करते हुए पासपोर्ट अर्जी रद्द कर दी।

उक्त दम्पति ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और प्रधानमंत्री कार्यालय को इस मामले की शिकायत की है। जानकारी के अनुसार पासपोर्ट कार्यालय में तैनात अधिकारी ने मुस्लिम पति को हिन्दू धर्म स्वीकारने की सलाह भी दी।

दम्पति से मिली जानकारी के अनुसार मोहम्मद अनस सिद्दीकी ने साल 2007 में लखनऊ में तन्वी सेठ से शादी की थी और वे खुशहाल ज़िंदगी व्यतीत कर रहे हैं। उनकी एक छह साल की बेटी भी है।

इस दम्पति ने पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था। दम्पति को 20 जून को लखनऊ के पासपोर्ट ऑफिस में इंटव्यू के लिए बुलाया गया था। दम्पति ने इंटरव्यू स्टेज A और B क्लियर कर लिया था। C स्टेज में पूछे गए सवालों को लेकर दिक्कत हुई।

अनस सिद्दीकी ने कहा कि उन्हें पासपोर्ट ऑफिस से एपीओ ऑफिस जाने के लिए कहा गया। जहाँ तैनात विकास मिश्रा नामक पासपोर्ट कर्मचारी ने महिला से बदसलूकी की। विकास मिश्रा ने यह भी कहा कि अगर उसने हिन्दू धर्म नहीं अपनाया तो उसकी शादी नहीं मानी जाएगी। इतना ही नहीं विकास मिश्रा ने अनस से कहा कि वह हिन्दू धर्म स्वीकार कर ले।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें