अगले 24 घंटे येदुरप्पा के लिए अहम, जा सकती है कुर्सी !

नई दिल्ली। कर्नाटक में बीजेपी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कल देर रात सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई आज सुबह तक जारी रही। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने बीजेपी विधायकों का पक्ष रख रहे मुकुल रोहतगी से जो सवाल किये, वे सवाल बीजेपी के लिए परेशानी पैदा करने वाले हैं।

कोर्ट ने बीजेपी से साफ़ तौर पर पूछा कि बहुमत के लिए अपने पास नंबर पूरे नहीं हैं। कोर्ट ने कहा कि आपके विधायकों की तादाद 104 है ऐसे में बहुमत के लिए ज़रूरी 8 अन्य विधायक कहाँ से लाएंगे ?

वहीँ कोर्ट ने वे दो पत्र भी कल कोर्ट में पेश करने को कहा है जो बीजेपी की तरफ से कर्नाटक के राज्यपाल को 15 और 16 मई को सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए दिए गए थे। कोर्ट इन पत्रों का आंकलन करेगा कि राज्यपाल को दिए गए इन पत्रों में बीजेपी ने बहुमत साबित करने के लिए क्या तर्क रखे हैं।

इतना ही नहीं कोर्ट ने बीजेपी से उन विधायकों की लिस्ट भी कल जमा कराने को कहा है जो बीजेपी की सरकार को समर्थन देंगे। यानि अगले 24 घंटो के अंदर ही बीजेपी को बहुमत साबित करने के मुद्दे पर कोर्ट को जबाव देना है।

कोर्ट ने जहाँ कांग्रेस की मांग पर येदुरप्पा के शपथ ग्रहण पर रोक नहीं लगायी वहीँ बीजेपी और अटॉर्नी जनरल की मांग पर कांग्रेस की याचिका को भी ख़ारिज नहीं किया बल्कि इस सुनवाई को अगले दिन यानि शुक्रवार को जारी रखने का फैसला सुनाया।

सुप्रीमकोर्ट के फैसले से अब येदुरप्पा और बीजेपी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। एक बड़ा सवाल यह है कि बीजेपी के पास 104 विधायक हैं और उसे 112 विधायकों की लिस्ट सुप्रीमकोर्ट को देनी है। ऐसे में 24 घंटे में 8 विधायक जुटाना बीजेपी के लाइट टेडी खीर साबित हो सकता है।

जानकारों की माने तो यदि बीजेपी कल सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई के दौरान अपने 112 समर्थक विधायकों की सूची देने में नाकाम रखती है तो येदुरप्पा की कुर्सी खतरे में पड़ सकती है साथ ही बीजेपी की भी फजीयत होगी।

वहीँ दूसरी तरफ कर्नाटक में राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कांग्रेस अब संसद से सड़क तक लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रही है। येदुरप्पा के शपथ ग्रहण समारोह के विरोध में कांग्रेस के सभी विधायक बेंगलुरु में फ्रीडम पार्क में धरने पर बैठे हैं। जेडीएस के विधायक भी इसमें शामिल हो रहे हैं। पूर्व पीएम और जेडीएस प्रमुख एचडी देवगौड़ा भी मौजूद हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें