अगली दिवाली पर जनता के अच्छे दिन लाएगी कांग्रेस, नोटबंदी की होगी जांच

नई दिल्ली। नोटबंदी के दो वर्ष पूरे होने पर कांग्रेस ने कहा है कि मोदी सरकार देश की जनता के अच्छे दिन लाने में नाकाम रही लेकिन अगली दिवाली पर कांग्रेस जनता के अच्छे दिन लेकर आएगी।

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि महंगाई और बाजार में चाय सुस्ती के चलते देश की जनता की दिवाली अच्छी नहीं मनी लेकिन अगली दिवाली तक देश की जनता के अच्छे दिन आ जायेंगे क्यों कि अगली दिवाली तक देश की जनता को मोदी सरकार से छुटकारा मिल चूका होगा।

आनंद शर्मा ने कहा कि 2019 में केंद्र में सरकार बदलते ही नोट बंदी की जांच शुरू की जायेगी। नोट बंदी के दो वर्ष पूरे होने पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि नोटबंदी का फैसला अकेले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जिद की वजह से लिया गया था।

उन्होंने कहा कि आज जब पूरी नकदी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पास वापस लौट आई है तो पीएम मोदी को यह बताना चाहिए कि उन्होंने नोट बंदी का फैसला क्यों लिया था।

आनंद शर्मा ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने नोटे बंदी का फैसला लेते समय इसके जो भी लाभ गिनवाए थे, वे सब नाकाम साबित हुए। ऐसे में वे बताएं कि नोटबंदी से किसका फायदा हुआ।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार द्वारा नोट बंदी लागू करके देश की जनता को बेवजह की परेशानी में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था में 86 फीसदी नकदी एक हजार और पांच सौ रुपये की नोटों के रूप में थी जिसे बिना किसी तैयारी के बाजार से हटा लिया गया।

आनंद शर्मा ने कहा कि नोट बंदी के चलते मध्य और छोटे धंधे ठप्प हो गए और चार करोड़ लोगों को बेरोज़गारी का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा कि जिन घरो में शादियां थीं वे नोट बंदी के चलते या तो स्थगित करनी पड़ीं या शादियां टूट गयीं। उन्होंने नोट बंदी के दौरान हुई मौतों के लिए भी पीएम नरेंद्र मोदी को ज़िम्मेदार ठहराया।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें