अखिलेश से सुलह के लिए शिवपाल ने रखी ये शर्त

कानपुर। समाजवादी पार्टी में हुए बंटवारे के बाद सुलह के कयासों के बीच सपा विधायक तथा वरिष्ठ नेता शिवपाल सिंह यादव ने अपने भतीजे और सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ सुलह के लिए एक शर्त रखी है।

शिवपाल ने कहा कि वह पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ सिर्फ एक शर्त पर समझौता करने को तैयार हैं वशर्ते कि नेताजी (मुलायम सिंह यादव) को पार्टी में पूर्ण सम्मान मिले और उन्हें पुनः पार्टी की बागडौर सौंपी जाए।

​सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने गुरुवार को लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि, नेताजी का अपमान करने के बाद अखिलेश के सारे विकास कार्य धूमिल पड़ गए। यदि अब भी नेताजी को उचित सम्मान मिले तो आपस में हमारा समझौता हो सकता है। शिवपाल ने यह बात गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान कही। वह यहां आम की दावत में शामिल होने आए थे।

शिवपाल बोेले चाहें जितना विकास कार्य करा लिया जाए मगर किसी का अपमान किया तो फिर गए काम से। नेताजी का अपमान करने के बाद अखिलेश यादव के सारे विकासकार्य धूमिल पड़ गए। जिसका नतीजा ये निकला कि पार्टी को हार का सामना करना पड़ा। शिवपाल बोले अखिलेश यादव घमण्डी है। वे कुछ चापलूसों और कानाफूसी करनें वाले लोगों के बहकावे में आकर नेताजी को अपमानित कर रहे हैं।

अखिलेश अपना वादा भूल रहे हैं। उन्होनें वादा किया था कि यूपी विधानसभा चुनावों में अगर पार्टी हारी तो वह पार्टी और सरकार की कमान नेताजी को सौंप देगें, लेकिन अभी तक इस ओर कोई भी पहल नहीं की गई। अगर अभी भी नेताजी का सम्मान वापस कर दिया जाए तो हमारा आपसी समझौता हो सकता है। गौरतलब है कि शिवपाल ने आगामी 6 जुलाई को नई पार्टी समाजवादी सेकुलर फ्रंट को लांच करने का एलान किया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें